लघु व कुटीर उद्योगों का विकास करना होगा

Image
वर्तमान समय में बेरोगारी एक बड़ी समस्या है. इसे समाप्त करना अत्यंत आवश्यक है. इसके लिए रोजगार के अवसर बढ़ाने होंगे. लघु और कुटीर उद्योगों का विकास करना होगा. क्योंकि इनसे बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध होगा. लघु और कुटीर उद्योगों को प्राथमिकता देने से युवा स्वयं आत्मनिर्भर भी हो सकेंगे व स्वयं का व्यापार कर सकेंगे. जिससे की सरकारी नौकरियों पर से निर्भरता समाप्त हो जाएगी. इसके लिए यह भी आवश्यक है की बच्चों को शुरू से ही आत्मनिर्भर बनने की शिक्षा भी मिलनी चाहिए. कौशल विकास का प्रशिक्षण भी बच्चों को समय-समय पर मिले तो इससे भी उनको अत्यधिक लाभ मिलेगा. जिससे की वें भविष्य में स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकेंगे एवं बेरोजगारी की समस्या से बचा जा सकेगा. 


सड़कों पर ट्रैक्टर-ट्राली से होने वाली दुर्घटनाओं से ऐसे बचे

फोटो साभार- अमर उजाला

         क्षमता से अधिक माल एवं लोगों के बैठने से ट्रेक्टर-ट्रॉलियों के पलटने की घटना बढ़ गई है। जिसका मुख्य कारण ट्रेक्टर-ट्रॉली का नियमों के विरद्ध संचालन होना है। इसके अतिरिक्त दुर्घटनाएं होने का एक बड़ा कारण खराब सड़क भी है। जिससे की इनका संतुलन बिगड़ता है और दुर्घटना हो जाती है। यदि चालक एवं नागरिक कुछ सावधानियां बरते तो दुर्घटना को होने से रोका जा सकता है।


चालक द्वारा बरतनी जाने वाली सावधानियां-

# नियमों के विरुद्ध ट्रेक्टर-ट्रॉली का संचालन न करे।

# इन्हें धीमी गति से चलना चाहिए एवं ओवर टेक करने से बचना चाहिए।

# रेत या बजरी को ले जाते समय इसे ढँक कर ले जाये जिससे की यह उड़कर अन्य वाहन चालकों की आँखों में न जाए। क्योंकि इनकी चुभन से आँखे बंद होती है और दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है।

# ट्रेक्टर शाम के समय उपयोग किया जाए तो उसकी दोनों हेडलाइट चालू रखनी चाहिए।

# दिन के समय में शहर के ज्यादा ट्रैफिक वाले क्षेत्रों में इन्हें चलाने से बचना चाहिए।

# असुरक्षित तरीके से ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवारी नहीं बैठाए।


नागरिकों द्वारा बरतने योग्य सावधानियां-

# ट्रेक्टर-ट्रॉली में यात्रा नहीं करनी चाहिए। क्योंकि यह यात्रा के लिए सवारी गाड़ी नहीं है।

# ट्रेक्टर की ट्रॉली में ब्रेक लाइट और इंडिकेटर नहीं होता है इसलिए इससे उचित दुरी बनाकर चलना चाहिए।

# इन्हें ओवरटेक करते समय सावधानी रखे। पर्याप्त जगह न हो तो इन्हें ओवरटेक करने से बचे।

# ओवरलोड ट्रेक्टर-ट्रॉली हो तो उसकी शिकायत दर्ज कराए।

# जागरूक बने एवं यातायात के नियमों को समझे व इनका उल्लंघन करने वालों की शिकायत करे।

Comments

Post a Comment

hey, don't forget to follow me.
feel free to give suggestions and ideas for my next article.

Popular posts from this blog

बढ़ती बेरोजगारी पर ध्यान दे...

ऐसे बनाए वन विहार को प्रदूषण मुक्त व बेहतर

प्रदुषण मुक्त हो जीवन दायिनी नदियां (Make the rivers pollution free)